इंडियन एसोसिएशन आफ़ दि ब्लाइंड द्वारा एक भव्य सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया

0
150

dsc_0083

नई दिल्ली ! विश्व लुई ब्रेल पखवाड़े तथा अपने पंद्रहवें वार्षिक उत्सव  के अवसर पर इंडियन एसोसिएशन
आफ़ दि ब्लाइंड द्वारा एक भव्य सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए दिल्ली एन.सी.आर. के लगभग  350 से 400  दृष्टिवान तथा दृष्टिबाधित व्यक्ति शामिल हुए।
इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि क्षेत्रीय विधायक: श्री अखिलेशपति त्रिपाठी थे।  उन्होंने अपने सम्बोधन में लुई महा मानव को प्रेर्णा श्रोत बताते हुए उनके द्वारा दृष्टिबाधित व्यक्तियों हेतु “ब्रेल” लिपि के अविष्कार को अब तक की सर्वोत्म खोज बताया।  इस लिपि के माध्यम से दृष्टिबाधित व्यक्ति भी सामान्य व्यक्तियों की भाँति पढ़-लिख पाते हैं और अपनी प्रतिभा के आधार पर हर क्षेत्र में अपना लोहा मनवा रहे हैं।  कार्यक्रम का प्रारम्भ दीप प्रज्वलन से हुआ।  तदोपरांत बालिका नीतिका ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत की।  लुई महा मानव को माल्यार्पण के पश्चात् श्री अनिल कपूर जी ने बहुत ही सुन्दर लुई वंदना प्रस्तुत की, जिसे उपस्थित सभी मेहमानों ने सराहा।  इसके अतिdsc_0081रिक्त श्री हरीश चंद्र जी ने गजल प्रस्तुत की, जिसे बहुत पसंद किया गया।  इसके अतिरिक्त संस्था द्वारा आयोजित दृष्टिबाधित छात्र/छात्राओं हेतु ब्रेल निबंध प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कृत किया गया।  रॉट्ररी क्लब, दिल्ली विश्वविद्यालय के पदाधिकारियों
द्वारा उपस्थित सभी दृष्टिबाधित लोगों को फोल्डिंग स्टिक्स तथा संस्था द्वारा विशेष रूप से देहरादून से मंगवा कर ब्रेल कैलेंडर्स वितरित किये गए।  अपने सम्बोधन में संस्था के महा सचिव, श्री एस.जी.एस. सिसोदिया ने बताया कि पिछले वर्ष संस्था ने अपने “आडियो लाइब्रेरी के द्वारा अनेक महत्वपूर्ण पुस्तकों का ध्वनियांकन दृष्टिबाधित छात्र/छात्राओं हेतु
रॉट्ररी क्लब, दिल्ली विश्वविद्यालय की सहायता से किया तथा देश भर के तमाम जरूरतमंद दृष्टिबाधित व्यक्तियों को डाक द्वारा उपलब्ध कराया गया। जिससे अनेक छात्र/छात्राएं लाभान्वित हुए हैं।  उन्होंने अपने सम्बोधन में आगे बताया कि वे कालेज गोइंग छात्रों के लिए एक छात्रावास प्रारम्भ करने की दिशा में कार्य कर रहे हैं, परन्तु फंड की कमी इस परियोजना के क्रियान्व्यन में आड़े आ रही है।

dsc_0076

कार्यक्रम के अंत में एक शानदार काव्य गोष्ठी का आयोजन भी किया गया।  इस गोष्ठी में युवा कवि श्री देव नागर जी के अतिरिक्त श्री नरेश मलिक, श्री उदयपाल सिंह चौहान तथा जाने माने कवि एवं विचारक श्री दयाल सिंह पवार जी
ने काव्य पाठ किया। इस कार्यक्रम की विशेषता यह थी कि सभी दृष्टिबाधित वक्ताओं तथा कलाकारों द्वारा यही संदेश दिया गया कि दृष्टिबाधित व्यक्तियों को दया की नहीं सहयोग की आवश्यकता है, जिसकी वे समाज से अपेक्षा करते हैं।  कार्यक्रम की अध्यक्षता एल।बी। कॉलेज के अंग्रेजी के एसोसिएट प्रोफेसर श्री एम.पी. यादव जी ने की तथा कार्यक्रम का संचालन श्री खेमानंद शर्मा ने किया।

 

LEAVE A REPLY