कलात्मक भरा हृयूमन कैनवस -एबीएस

0
179
????????????????????????????????????
 

मानवीय भावनाओं को मानव शरीर पर उकेरना एक अलग ही कला है जो अब भारत में भी काफी प्रचलित हो रही है जबकि काफी साल पहले भारत में अभिनेत्री पूजा भट्ट ने अपने शरीर पर पेंट करवाया था तो एक अलग ही विवाद पैदा हो गया था। लेकिन अब यह एक कला है जिसको सीखना एक बड़ी बात है क्योंकि कैनवस पर पेंटिग करना और शरीर पर पेंटिग करना अलग ही बात है। इसमें भावो के साथ साथ रंगो का खेल भी खेलना पड़ता है और उससे भी ज्यादा जरूरी है उस कलाकृति की फोटोग्राफी जो उसमें एक कलात्मकता भर देता है जिससे देखने वालो का नजरिया बदल जाता है, यह कहना था एशियन बिजनेस स्कूल के अध्यक्ष संदीप मारवाह का जिन्होने एबीएस में चल रही इजरायली पेंटर सुज़ाना लेवी की हयूमन पेंटिग्स व अपने कैमरे से उन पेटिंग्स को अलग रूप में दिखाने के लिए इजरायली फोटोग्राफर ईदान माॅज की फोटोग्राफ की प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। इस अवसर पर यूपी फिल्म कौंसिल के चेयरपर्सन गौरव त्रिवेदी, इंडो पोलिश चैंबर के निदेशक विजय मेहता, मारवाह स्टूडियो के निदेशक संदीप मारवाह उपस्थित हुए। इस अवसर पर गौरव त्रिवेदी ने कहा प्रकृति ने जो अनमोल रंगो से इस धरती को सजाया है उसको बाधना बड़ा ही मुश्किल है। मैं अक्सर सुबह उठकर या शाम को सूरज को देखता हूं तो एक अलग सा सूकून मेरे ज़हन में आ जाता है क्योंकि यह रंग आपको कहीं नहीं मिलेगें और आज तो इन पेटिंग्स को देखकर मुझे बहुत अच्छा लग रहा है क्योंकि पेंटिग्स के लिए आपको कहीं जाने की जरूरत नहीं क्योंकि अपने शरीर पर ही अपने भावों को उकेरना है। एबीएस के निदेशक लालित्य श्रीवास्तव ने कहा मुझे खुशी है कि यहां के छात्रों ने इस प्रदर्शनी मंे बहुत ही आत्मीयता से देखा और सराहा। आगे भी हम अपने छात्रों के लिए इस तरह के आयोजन करते रहेगें। 

 
सुनील पाराशर

LEAVE A REPLY