हर कदम हर घड़ी यूँ ही छलते छलते रहे -दुर्गेश अवस्थी

0
230

हर कदम हर घड़ी यूँ ही छलते छलते रहे  13442234_1158463724205089_4368704277871665525_n
लोग        चेहरे पे चेहरे     बदलते रहे

स्वाभिमानी भरी  जिंदगी में हमें
ठोकरें तो लगीं पर सम्हलते  रहे

मोम होकर भी कुछ लोग पत्थर बनें
हम तो पत्थर भी होकर पिघलते रहे

जिंदगी मौत का खेल चलता रहा
और हम तो खड़े हाथ   मलते रहे

हमको हर पात्र निज रूप देता गया
और हम है कि पानी से  ढलते रहे

इक क्षितिज पर मिलन के लिए आज तक
आसमां और धरती मचलते रहे

जिनकी पलकों में छिपकर मैं बैठा रहा
वो ही तिनका समझकर मसलते रहे

Kavi Durgesh Awasthi
Geetkar / Ghazhalkar

LEAVE A REPLY