सर्विस वोटर को मतदान के शत प्रतिशत अवसर प्राप्त कराया जाये

0
38

IMG-20171027-WA0007

27 अक्टूबर 2017 इलाहाबाद।
मा. मुख्य निर्वाचन अधिकारी उत्तर प्रदेश श्री एल. वेंकटेश्वर लू ने अपने इलाहाबाद भ्रमण के दौरान आज इलाहाबाद के मण्डलायुक्त डॉ. आशीष कुमार गोयल, जिलाधिकारी श्री सुहास एल.वाई. तथा इलाहाबाद मण्डल के सभी जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी, उप जिला निर्वाचन अधिकारी, सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी एवं सम्बन्धित निर्वाचन अधिकारियों के साथ निर्वाचन में लोगों की जागरूकता मतदान केन्द्रों तक लाने के सम्बन्ध में बैठक की गयी। बैठक में मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने सभी अधिकारियों से कहा कि मतदाताओं को जागरूकता के कार्यक्रमों को सिर्फ प्रचार तक सीमित न रखा जाय बल्कि जागरूकता कार्यक्रम की सफलता तभी जब मतदाता वोट देना अपना कर्तव्य समझे।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि शहरी क्षेत्रों में रह रहे लोगों को मतदान देने के प्रति एक जागरूकता लायी जाय। उन्होंने इस बात भी फोकस किया कि मतदान केन्द्रो का निरीक्षण किया जाय तथा आवश्यकतानुसार कमियों को समय रहते दूर कर लिया जाय। उन्होंने यह भी कहा कि अगर मतदान केन्द्र बदलने की भी जरूरत है तो उसे भी मतदाताओं की सुविधाओं का ध्यान रखते हुए बदला लिया जाय। उन्होंने कहा कि मतदान केन्द्र आने वाले मतदाताओं के बैठने, उनके स्वच्छ पीने योग्य पानी व्यवस्था, मतदान केन्द्रो की साफ-सफाई, केन्द्रों में शौचालय की रनिंग वाटर के साथ उचित व्यवस्था आदि मूलभूत सुविधाओं का विशेष ध्यान दिया जाय।
     मुख्य निर्वाचन  अधिकारी ने कहा कि चुनाव के दौरान लगने वाली बाहरी एवं स्थानीय फोर्स इस बात ध्यान रखे कि मतदाताओं को किसी प्रकार की परेशानी न हो और उनसे अच्छा बर्ताव किया जाय। उन्होंने कहा कि सर्विस वोटर  के लिए और अधिक पारदर्शिता के साथ कार्य किया जाय। इस सम्बन्ध में उन्होंने अधिकारियों से कहा कि सर्विस वोटर के लिए बनने वाली सूची की अच्छी तरह से निरीक्षण कर लिया जाय। जिससे कि बैलेट पेपर समयबद्ध तरीके से पहुंचे एवं सर्विस वोटर को वोट देने से वंचित न रहे। बैठक में बताया गया सर्विस वोटर के डाक्यूमेंट को सम्बन्धित विभागों से स्कैन कर भेजा जा रहा है जिससे बैलेट पेपर सही जगह पहुंचे। बार कोर्ड से बैलेट पेपर में जनरेट किया जायेगा जिससे किसी प्रकार डुप्लीकेशी नही की जा सकेगी।
     श्री एल. वेंकटेश्वर जी ने कहा कि लोगों को जागरूक करने मे युद्धस्तर पर कार्य किया जाये। उन्होंने कहा कि इस कार्य में शैक्षिणक संस्थाओं से सम्पर्क कर युवाओं को वोट देने के प्रति जागरूक किया जाय। उन्होने कहा कि लोगों को बताया जाय कि एक वोट की कीमत क्या होती है तथा उनके वोट ने देने से लोकतंत्र में क्या परिवर्तन आ सकता है इससे उन्हें अवगत कराया जाय। उन्होंने कहा कि लोगो को जागरूक करने के साथ-साथ मतदान देने के लिए प्रेरित करे।
     मण्डलायुक्त डॉ. आशीष कुमार गोयल ने कहा कि शहरी क्षेत्रो में चुनाव के समय पार्किंग की व्यवस्था दी जाय तथा मतदान केन्द्रों तक आने हेतु स्पेशल वाहनों को भी चलाया जाना चाहिए जिससे आने-जाने मे असमर्थ लोगों को भी वोट डालने का अवसर आसानी से मिल सके। उन्होंने अपनी बात को जोड़ते हुए यह भी कहा कि शहरी क्षेत्रो के कुछ बूथों पर नम्बर सिस्टम पर्ची भी एक ट्रायल के रूप में चलायी जाय जिससे मतदाताओं को बहुत देर तक खड़ा रहने की जरूरत न पड़े और वे अपने पर्ची के समय से आकर अपना कीमती वोट डाल सके। उन्होंने इस बार भी मुख्य निर्वाचन अधिकारी का ध्यान आकर्षित करते हुए कहा कि चुनाव के दौरान लगने वाली फोर्स के द्वारा मतदाताओं से अच्छा व्यवहार करे एवं उनकी मतदान के समय उनकी हरसंभव मदद करे।
जिलाधिकारी श्री सुहास एल.वाई. ने भी अपने सुझाव मुख्य निर्वाचन अधिकारी के समक्ष रखते हुए वीवीपैट की समस्याओ पर प्रकाश डाला तथा उच्च स्तर के वीवीपैट का उपयोग किये जाने को कहा। उन्होंने यह भी कहा कि पोलिंग बूथों पर उपस्थित एजेंट को निर्धारित किये दिशा निर्देशो का पालन करना चाहिए जिससे मतदाताओं को अपने मतदान करने के दौरान किसी प्रकार की कोई परेशानी न हो। उन्होंने अपने अनुभवों को साझा करते हुए बताया कि बूथ मित्रो की मदद से वोटर को मतदान करने में और अधिक सहुलियत दी जा सकती है। इसी तरह अन्य जनपदों से आये जिलाधिकारी एवं मुख्य विकास अधिकारियों ने अपनी राय, सुझाव एवं अपने अनुभवों को मुख्य निर्वाचन अधिकारी के समक्ष साझा किया।
     मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने अधिकारियों से कहा कि मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए लोगों को जमीनी स्तर पर जाकर जागरूक करने की आवश्यकता है। उनसे उनकी मतदान न करने की समस्याओं के बारे में पूछा जाय तथा आने वाले चुनावों में उनकी समस्यायोँ का समाधान भी किया जाय। उन्होंने कहा लोगों से चुनाव के फीडबैक भी लिया जाय। उन्होंने कहा कि हमें लोगों के मन में ऐसा माहोल बनाना है कि अगर कोई व्यक्ति वोट नही दे पाता तो उसे निराशा महसूस है कि वह सरकार बनाने में अपनी कीमती समय नही दे सका। उन्होंने कहा कि नासमझ को समझदार बनाना है और समझदार को क्रियाशील बनाकर ही हम मतदान के प्रतिशत को बढ़ा सकते है।

LEAVE A REPLY