दोहे रमेश के बसंत पंचमी पर

0
165
आई है ऋतु प्रेम की,….. आया है ऋतुराज !
बन बैठी है नायिका ,सजधज कुदरत आज !!
…………………………………………………..
सरस्वती से हो गया ,तब से रिश्ता खास !
बुरे वक्त में जब घिरा,लक्ष्मी रही न पास !!
………………………………………………
जिसको देखो कर रहा, हरियाली का अंत !
आँखें अपनी मूँद कर, रोये आज बसंत !!
…………………………………………………
पुरवाई सँग झूमती,.. शाखें कर शृंगार !
लेती है अँगडाइयाँ ,ज्यों अलबेली नार !!
…………………………………………………..
ज्यों पतझड़ के बाद ही,आता सदा बसंत !
त्यों कष्टों के बाद ही,खुशियां मिलें अनंत !!
………………………………………………
सर्दी-गर्मी मिल गए , बदल गया परिवेश !
शीतल मंद सुगंध से, महके सभी “रमेश” !!
………………………………………………..
हुआ नहाना ओस में ,…तेरा जब जब रात !
कोहरे में लिपटी मिली,तब तब सर्द प्रभात !!
……………………………………………….
कन्याओं का भ्रूण में,….. कर देते हैं अंत !
उस घर में आता नही, जल्दी कभी बसंत !!
रमेश शर्मा

LEAVE A REPLY