गुरु से जीवन चलें सुचारु

0
36
FB_IMG_1563185591658
माता-पिता हैं प्रथम गुरु
जिनसे होता जीवन शुरू ।
ज्ञान, ध्यान की साधना से
जीवन को संवारते हैं गुरु ।।
ज्ञान-कौशल को तराशकर
शिखर पर पहुंचाते हैं गुरु ।
सदा सही राह पर चलना
सिखलाते हैं धरा पर गुरु ।।
पूर्णिमा की चांद की तरह
शीतलता बिखरते हैं गुरु ।
चलेगा जन जीवन सुचारू
जब पूजेंगे हम अपने गुरु ।।
       ✍ गोपाल कौशल
     नागदा जिला धार म.प्र.

LEAVE A REPLY