हमारे मेहमान-डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’

1
51

नाम- डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’ 22815062_819708684878660_6395269779497560616_n

पिता का नाम- श्री घासीराम आर्य

जन्म- 4 फरवरी, 1951 (नजीबाबाद, उत्तरप्रदेश) (सम्प्रति-सन् 1975 से उत्तराखण्ड की नैनीताल कमिश्नरी के खटीमा नगर में स्थायी निवास)

शिक्षा- एम.ए. (हिन्दी-संस्कृत)

तकनीकी शिक्षा- आयुर्वेद स्नातक व्यवसाय- आयुर्वेदिक चिकित्सा (वात व्याधियों में दक्षता)

सदस्य-अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग, उत्तराखण्ड सरकार (सन्-2005 से 2008 तक)

अब तक प्रकाशित कृतियाँ- कुल आठ 1-सुख का सूरज 2- धरा के रंग प्रकाशित बात कृतियाँ- 1नन्हें सुमन 2- हँसता गाता बचपन

प्रकाशित दोहा संग्रह- 1- खिली रूप की धूप 2- कदम-कदम पर घास, प्रकाशित ग़ज़ल संग्रह-“गजलियात-ए-रूप” और प्रकाशित संस्मरण ग्रन्थ “स्मृति उपवन” प्रकाशनाधीन- दो दर्जन से अधिक प्रौढ़ कृतियाँ (गद्य-पद्य, अनुवाद तथा संस्मरण) एवं आधा दर्जन से अधिक बाल कृतियाँ।

विधा- गद्य-पद्य, अनुवाद और बाल साहित्य।

लेखन- सन् 1965 से अनवरत।

अन्तर्जाल में योगदान- विभिन्न ब्लॉगों में 5000 से अधिक रचनाएँ।

सम्मान- हिन्दी साहित्य परिकल्पना द्वारा वर्ष-2010 के उत्सवी गीतकार का सम्मान। तस्लीम परिकल्पना द्वारा वर्ष 2011 के सर्वश्रेष्ठ गीतकार का सम्मान। संस्कार भारती द्वारा काव्य शिरोमणि तथा दर्जनों साहित्यिक और सामाजिक संस्थाओं द्वारा पुरस्कृत और सम्मानित।

पत्रकारिता- उत्तर उजाला, हिमालय टाइम्स तथा निजी पत्रिका“उच्चारण” का सम्पादन और प्रकाशन सन् 1996 से 2004 तक।

वेब पर सक्रियता- दो दर्जन से अधिक ब्लॉगों में लिखने का क्रम आज भी जारी।

सम्पर्क- टनकपुर-रोड, ग्राम-अमाऊँ, डाकघर-खटीमा (ऊधमसिंहनगर) उत्तराखण्ड-262 308

1 COMMENT

LEAVE A REPLY