हिंदी दिवस की पूर्व संध्या पर आयोजित हुआ “एक शाम कवि सम्मेलन के नाम” अखिल भारतीय कवि सम्मेलन

0
129

WhatsApp Image 2020-09-14 at 7.19.51 AM
देश की प्रसिद्ध संस्थाओं गीताश्री साहित्य भारती परिषद एवं मलिक फैंस क्लब नई दिल्ली के तत्वाधान में रविवार सितंबर 13, 2020 को हिंदी दिवस की पूर्व संध्या पर “एक शाम कवि सम्मेलन के नाम” अखिल भारतीय कवि सम्मेलन संपन्न हुआ ।इसमें देश के नामचीन कवियों एवं कवयित्रीयों ने शिरकत की। इस कार्यक्रम की मुख्य अतिथि देश की प्रसिद्ध बॉलीवुड हिन्दी फ़िल्मों की गायिका पार्वती खान रहीं एवं विशिष्ट अतिथि ट्रू मीडिया साहित्यिक पत्रिका व चैनल के प्रधान संपादक ओम प्रकाश प्रजापति जी रहेl पार्वती खान जी ने सभी को बधाई एवं शुभकामनाएं प्रेषित की और ओम प्रकाश प्रजापति जी ने हिंदी में हस्ताक्षर करने के लिए प्रेरित किया। हिंदी है हिंदुस्तान की भाषा यह मेरी है प्राण बताया। काव्य पाठ करने से पूर्व मां सरस्वती को पुष्प अर्पित किया गया और सुनीता जी ने माँ सरस्वती की वंदना कीl मंच संचालन प्रसिद्ध गायिका चित्रा चक्रवर्ती जी ने किया और कार्यक्रम की अध्यक्षता देश के प्रसिद्ध शायर नरेश मलिक जी ने की और उन्होंने बहुत ही बेहतरीन शेर कहे जिसे सभी ने बेहद पसंद किया जो तरह हैं

“जो शोहरत मिले तो ये बस ख्याल रखना,
फकीरों सा लहजा भी हर हाल रखनाl

अदब की रवायत न भूले कभी भी,
बशर आदतों को तू यू ढाल रखना “

सभी अन्य कवियों ने अपनी रचनाएं पढ़ी संजय गिरी ने नारी शक्ति के विषय पर तथा पवन मित्तल हरियाणा ने माता पिता के ऊपर अपनी रचना सुनाई। कवि हरीश भारद्वाज जी ने व्यंग पर आधारित प्रस्तुति दीl संजय गिरी ने देश प्रेम से ओतप्रोत रचना सुनाई। उत्तर प्रदेश से जुड़े राज नारायण गुप्त “कैमी ” ने मां के पैरों में ही जन्नत है सुना कर खूब वाहवाही लूटी सामयिक रचना अरे पागल लड़की हे कंगना रचना सुनाकर महाराष्ट्र सरकार के ऊपर कटाक्ष किया। कार्यक्रम के व्यवस्थापक कमलेश कुमार गुप्ता गोपालगंज बिहार तथा अभिनव पांडे शेखर बस्ती उत्तर प्रदेश रहे । कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए प्रसिद्ध शायर नरेश मलिक जी ने अंत में सब का आभार प्रकट किया और इसके साथ ही एक शानदार कार्यक्रम सम्पन्न हुआl

LEAVE A REPLY