तर्पण राष्ट्रीय कवि सम्मेलन के दौरान कल्पवृक्ष पुस्तक ऑनलाइन रिलीज

0
89

chetan nitin
WhatsApp Image 2020-09-15 at 1.19.57 PM

रिपोर्ट / पत्रकार संजय कुमार गिरि
दिल्ली :- तर्पण राष्ट्रीय कवि सम्मेलन के दौरान कल्पवृक्ष ( एक पौराणिक एवं वैज्ञानिक धरोहर) नामक पुस्तक को ऑनलाइन रिलीज किया गया । ज्ञात हो कि धर्म गुरु यति नरसिंहा नन्द सरस्वती जी महाराज (राष्ट्रीय संयोजक अखिल भारतीय संत महापरिषद) एवं यति मां चेतनानंद सरस्वती ( महन्त शिव शक्ति पीठ डासना, गाजियाबाद) के सानिध्य में वरिष्ठ कवि सारस्वत मोहन मनीषी (दिल्ली) की अध्यक्षता में साइबर सिपाही एवं सूर्या बुलेटिन के ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स (फेसबुक एवं यूट्यूब चैनल) पर यह कार्यक्रम सम्पन्न हुआ । जिसमें कवि “चेतन” नितिन खरे (महोबा, बुन्देलखण्ड) के संचालन में कवि जनार्दन पांडेय प्रचण्ड (बैंगलोर), कवि शुभम मंगला (दिल्ली), कवि अजय मिश्र (दिल्ली), कवयित्री समीक्षा सिंह जादौन (उत्तर प्रदेश) ने अपने काव्यपाठ से हुतात्माओं का तर्पण किया ।
इस अवसर पर शौर्य धरा बुन्देलखण्ड की क्रांतिकारी लेखनी के धनी राष्ट्रीय कवि एवं क्रांतिकारी लेखक “चेतन” नितिन खरे की पुस्तक; कल्पवृक्ष (एक पौराणिक एवं वैज्ञानिक धरोहर) को यति नरसिंहा नन्द सरस्वती जी महाराज ने ऑनलाइन रिलीज किया । इस पुस्तक के माध्यम से पाठकों को कल्पवृक्ष और कल्पवृक्ष वाले स्थानों के विषय में पौराणिक जानकारियां एवं वैज्ञानिक तथ्य जानने को मिलेंगे । विभिन्न सन्दर्भों केे माध्यम से कल्पवृक्ष की महत्ता को एक ही पुस्तक द्वारा आम जनमानस तक पुनः पहुंचाने का प्रयास किया गया है । धर्म गुरु यति नरसिंहा नन्द सरस्वती जी महाराज ने कहा कि सनातन धर्म के लिए जितनी महत्त्वपूर्ण गाय, गंगा और गीता हैं; उतना ही महत्वपूर्ण कल्पवृक्ष भी है । इसलिए हिन्दुस्तान के जिन जिन हिस्सों में अभी भी कल्पवृक्ष हैं; उन्हें अच्छी तरह रख रखाव करके संरक्षित किया जाना चाहिए । वानस्पतिक रूप से भी कल्पवृक्ष बहुत ही गुणकारी वृक्ष है । इसके ऊपर व्यापक शोध कार्य किए जाने चाहिए । अंत में कल्पवृक्ष से प्रारम्भ हुई पुस्तक की संकल्पना कामधेनु की महत्ता पर जाकर पूर्ण होती है ।

ज्ञात हो कल्पवृक्ष (एक पौराणिक एवं वैज्ञानिक धरोहर) पुस्तक के लेखक राष्ट्रवादी कवि “चेतन” नितिन खरे मूल रूप से बुन्देलखण्ड के महोबा जनपद के सिचौरा गांव के निवासी हैं । वर्तमान में दिल्ली में निवास करते हुए; आप देश भर में मंचीय कवि सम्मेलनों के प्रतिष्ठित कवियों में सम्मिलित हैं । बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय झांसी से वनस्पति विज्ञान, जीव विज्ञान और रसायन विज्ञान से विश्वविद्यालयी शिक्षा प्राप्त करने के साथ ही आपने चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय मेरठ से कानून से स्नातक की उपाधि प्राप्त की है । कल्पवृक्ष पुस्तक के पूर्व आपके साझा काव्य संग्रह भी प्रकाशित हो चुके हैं । यह पुस्तक विश्व भर में कहीं भी ऑनलाइन मंगवाई जा सकती है ।

LEAVE A REPLY