मुरादनगर स्थित काईट द्वारा दो दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय संगोष्ठी

0
45

Collage
मेरठ रोड मुरादनगर स्थित काईट ग्रुप आॅफ इन्स्टीट्यूशन्स में आज दिनांक 21 फरवरी 2020 दिन शुक्रवार को दो कार्यक्रमों का शुभारंभ किया गया जिसमें फार्मेसी विभाग द्वारा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग एवं ए0के0टी0यू0 के आर्थिक सरंक्षक नोलेज पार्टनर भारतीय भेषज संहिता आयोगए इण्डियन फार्मेसी ग्रेजुएट एसोसिएशन द्वारा प्रायोजित ‘‘आॅर्टिफिशियल इन्टेलिजेन्स के स्वास्थ्य पर प्रभाव‘‘ के विषय पर दो दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय संगोष्ठी के मुख्य अतिथि डाॅ0 अतुल कुमार नासा (अध्यक्ष-इण्डियन फार्मेसी ग्रेजुएट एसोसिएशन), डाॅ0 जी0वी0आर0 जोसेफ (निदेशक-होम्योपेथी फार्माकोपिया लेबोरेट्री, गाजियाबाद), डाॅ0 जय प्रकाश (निदेशक-भारतीय भेषज संहिता आयोग) व संस्थान के निदेशक डाॅ0 अमिक गर्ग, संयुक्त निदेशक डाॅ0 मनोज गोयल, कार्यक्रम के संयोजक डाॅ0 जगन्नाथ साहू एवं अन्य विशिष्ट अतिथियों एंव साथ ही तीन दिवसीय राष्ट्रीय स्तर के खेल उत्सव रण-2020 के मुख्य अतिथि डा0 ए0के0 बंसल निदेशक, खेलो इण्डिया, भारत सरकार, डाॅ0 राकेश गुप्ता, अध्यक्ष, एथेलेटिक्स पारालैम्पिक कमिटी, भारत सरकार द्वारा दीप प्रज्जवलित कर किया गया।

अन्तर्राष्ट्रीय संगोष्ठी के मुख्य अतिथि डा0ॅ अतुल कुमार नासा जी ने छात्रो को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (कृत्रिम होशियारी) के बारे में अवगत कराते हुए बताया कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का फार्मा क्षेत्र में सही सूझ-बूझ के साथ उपयोग से हम विभिन्न प्रकार के लाइलाज, अनुवांशिक एवं नई तरह की बिमारियों की जाॅच एवं इलाज समय से पहले ही खोज सकते है। परन्तू हमें इस बात का भी ध्यान रखना होगा कि हम आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के उपयोग के आदि ना हो।

कार्यक्रम में विभिन्न देशों के गणमान्य जिसमें मुख्य रूप से डाॅ0 अतुल कुमार नासा (अध्यक्ष-इण्डियन फार्मेसी ग्रेजुएट एसोसिएशन), इंजिनियर अभिषेक पाठक, कनाडा, डाॅ0 इन्द्रामणि नन्दी (जुबीलेन्ट-यू0एस0ए0), डाॅ0 इन्दु (सी0एस0आई0आर0-केरला) डाॅ0 अमिल देशान्तरी (सनफार्मा-वडोदरा), डाॅ0 जी0आर0 जोसफ एवं डाॅ0 असीम साहू (सेन्ट्रल ड्रग्स स्टैण्डर्ड कन्ट्रोल आॅर्गेनाइजेशन) आदि उपस्थित हुए।

प्रतिस्पर्धा रण-2020 में उत्तर भारत के विभिन्न संस्थानों जैसे गलगोटिया यूनिवर्सिटी-ग्रेटर नोएडा, एम0आई0ई0टी0-मेरठ, जी0एल0 बजाज-नोएडा, माता सुन्दरी काॅलेज-दिल्ली,आई0एम0एस0-गाजियाबाद तथा और भी अनेकों संस्थान ने भाग ले रहे हैं। खेल प्रतियोगिता रण-2020 में फुटबाॅल, बाॅस्केटबाॅल, लाॅन टेनिस, टेबल टेनिस, बैडमिंटन, क्रिकेट, वाॅलीबाॅल, योगा, पूल, केरम व शतरंज के साथ-साथ पब-जी व फीफा आदि खेलों के आयोजनों की प्रस्तुति की गयी ।

इस अवसर पर मुख्य अतिथि डाॅ0 ए0के0 बंसल निदेशक खेलो इण्डिया, (भारत सरकार) ने अपने उद्बोधन में कहा कि काईट इकलौता ऐसा संस्थान है जो इतने बडे स्तर पर राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन करता रहता है। उन्होंने कहा कि अब काईट को और भी बडे स्तर पर खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन करना चाहिए। इसके आलावा विशिष्ट अतिथि के रूप में पधारे डाॅ0 राकेश गुप्ता, अध्यक्ष, एथेलेटिक्स पारालैम्पिक कमिटी, भारत सरकार, पद्यम श्री प्रशान्ती सिंह, (बास्केटबाल) पूर्व भारतीय महिला बाॅस्केटबाॅल टीम की कप्तान सुश्री दिव्या सिंह ने छात्रों में खेल के प्रति जोश भरते हुए कहा कि खेलों से न सिर्फ शारिरिक विकास होता है अपितु मानसिक विकास भी होता है। उन्होंने यह भी कहा कि संस्थानों से निकलकर ही देश के लिए खिलाड़ी तैयार होते है।

कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण 3 ओलंम्पिक स्पर्धाओं में भाग लेने वाले तथा राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त पद्यम श्री तीरंदाज लिम्बाराम जी रहे।

अन्तर्राष्ट्रीय संगोष्ठी कार्यक्रम में विभिन्न राज्यों जैसे उत्तर प्रदेश, जम्मु, छत्तीसगढ, हरियाणा, मध्य प्रदेश, एवं गुजरात के शिक्षण संस्थानों ने नामांकन करा कर अपनी सहभागिता सुनिश्चित की है। कार्यक्रम में विदेश के शिक्षण संस्थानों के प्रतिभागियों ने भी सहभागिता तय की है।

इस अवसर पर डाॅ0 के0 नागराजन, डीन एकेडमिक्स, डा0 अनिल अहलावत, डीन छात्र कल्याण,डा0 आशिष कर्णवाल, डा0 प्रमोद कुमार यादव, डा0 ब्रजेश कुमार तिवारी, डा0 मनी त्यागी, , खेल अधिकाारी तुषार धर शुक्ला सहित समस्त विभागाध्यक्ष, प्रशासनिक अधिकारी श्री उमेश शर्मा, प्राध्यापकगण व भारी संख्या में संस्थान के छात्रगण उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY