लेखनी राज करेगी

0
31

1-

जब मस्जिद में भजन शिवाले में अजान हम गायेंगे |
हिन्दू इद उल फितर मुसलमा होली मिलन मनायेंगे |
सच्चे अर्थों में भारत माँ उस दिन ही मुस्कायेगी –
जब  हम  सारे  धर्म भुलाकर  मानव धर्म बनायेंगे ||

हर दिल की आवाज बनेगी |
अवध लेखनी राज करेगी ||

२-
हिन्दू मुस्लिम सिक्ख इसाईये कहना अब तो छोड़ें |
मज़हब में जो हमें बाँटतेहम मिलकर उनको तोड़ें |
होली ईद दिवाली क्रिसमसबैशाखी से ये सीखें –
मानवता ही सबसे ऊपरजो भटके उनको जोड़ें ||

हर दिल की आवाज बनेगी |
अवध लेखनी राज करेगी ||

३-
फैक्टरियों से मौत बाँटना क्या विकास कहलाता है ?
जैव जगत का गला घोंटना क्या विकास कहलाता है ?
एक बात बस मुझे बताओ हे विकास के उन्नायक-
मूल काटकर शाख सींचना क्या विकास कहलाता है ??

हर दिल की आवाज बनेगी |
अवध  लेखनी  राज करेगी ||

अवधेश कुमार अवध

LEAVE A REPLY