मैली यमुना नदी अब मरण अवस्था में

0
78

IMG_20170403_105048

जल प्रदूषण भारत के सामने खड़े बड़े संकटों में से एक है। यमुना भारत की एक नदी है, यह गंगा नदी की सबसे बड़ी सहायक नदी है, भारतवर्ष की सर्वाधिक पवित्र और प्राचीन नदियों में यमुना की गणना गंगा के साथ की जाती है। वहीँ दिल्ली में कोई ऐसी जगह नहीं,जहाँ आपको यमुना का साफ़ निर्मल पानी दिखाई दे ? जहाँ भी आप जाएंगे, हर जगह यमुना का पानी काला ही नज़र आ रहा है वज़ीराबाद के एक तरफ यमुना का पानी एकदम साफ़ और दूसरी ओर एक दम काला ! यमुना के आसपास के गांवों में रहने वाले लोगों की माने तो नदी में प्रदूषण काफी बढ़ गया है। फिलहाल पानी नहीं है, लेकिन जब शुरुआत में पानी आता है तो नहाने के लायक भी नहीं होता। फिलहाल पानी नहीं होने के बावजूद यमुना में कहीं फैक्ट्री का गंदा पानी तो कहीं सीवर लाइन का पानी ड़ाला जा रहा है। इससे यमुना में प्रदूषण का स्तर काफी बढ़ रहा है। बावजूद इसकी सफाई को लेकर कोई ठोस प्रयास नहीं किए जा रहे हैं। नदी न जाने कितने ही गीतों, कविताओं, कहानियों-किस्सों, पर्व-त्यौहारों की समृद्ध, साझी संस्कृति के केन्द्र होने के बावजूद औद्योगिक प्रदूषण, बिना उपचार के कारखानों से निकले दूषित पानी को सीधे नदी में गिरा दिया जाना, यमुना किनारे बसी आबादी का मल-मूत्र और गंदगी को सीधे नदी में बहा दिया जाता है, साथ ही धार्मिक वजहों के चलते तमाम मूर्तियों व अन्य पूजा सामग्री का नदी में विसर्जन यमुना में प्रदूषण का स्तर और खतरनाक बना रहा है तथा दिल्ली से आगे जा कर ये नदी मर जाती है ! सरकार के साथ-साथ आप-हम को भी इस यमुना नदी को प्रदूषण रहित बनाने के लिए प्रयासरत होना होगा !
ओमप्रकाश प्रजापति

LEAVE A REPLY