मानसिकता पुरुषों की…

0
33
पता नहीं कब बदलेगी पुरुषों की मानसिकता, IMG_20170324_173904
औरतों की देह के आगे कुछ नहीं इन्हें दिखता।
 
फेसबुक पर भेजता औरतों को मित्रता निवेदन,
स्वीकार होते ही निवेदन असभ्य संदेश भेजता।
 
फिर पोस्ट देखने की बजाए देखता वो तस्वीर,
फिर उन तस्वीरों पर अभद्र टिप्पणियाँ लिखता।
 
कई तस्वीरों को साझा करता अपने दोस्तों से,
हर औरत के प्रति गंदे विचार दिमाग में रखता।
 
संदेश का जवाब नहीं मिलने पर भड़क जाता,
फिर एक पल भी मित्रता सूचि में नहीं टिकता।
 
दे देती है कोई औरत पलट कर जवाब करारा,
घटिया सोच है तुम्हारी कह औरत पर चीखता।
 
करके गलती सरेआम पुरुष खुद ही अकड़ता,
अपनी पिछली गलतियों से नहीं सबक सीखता।
 
सुलक्षणा के जैसे यदि कोई दे देती है चेतावनी,
कहता है लिखती हो तुम घटिया घटिया कविता।
 
 
डॉ सुलक्षणा D/o श्री राम मेहर अहलावत,
शिव कृपा भवन, गली नंबर 2, वार्ड नंबर 6,
प्रेम नगर, चरखी दादरी-127306

LEAVE A REPLY