मोबाइल रेडियशन का बढ़ता प्रभाव 

1
161

;;;
लेखक कर्मपाल प्रजापत

आज के इस आधुनिक जमाने में इलेक्ट्रॉनिक्स उपकरणों का उपयोग बहुत भारी मात्रा में बढ गया है। आज के इस टेक्नोलॉजी के युग हम वायरलेस तकनिकी का उपयोग बहुत अधिक मात्रा में कर रहे है। इनके इतने चलन के कारण इनका दुष्प्रभाव बहुत तेजी से बढ़ रहा है और बहुत कम ही लोग इसके बारे  में जानते है की हम जान बूजकर अपना और अपने बचो का भविष्य अंधकार की और बढ़ रहे है।

आज के इस छोटी सी पोस्ट में में आपको मोबाइल फ़ोन से होने वाले विकिरण के दुष्प्रभाव के बारे में कुछ जानकारी साझा करने की कोशिश करूँगा जो मेने कई जगहों से छोटी छोटी सुचना लेकर प्रकाशित कर रहा हु और कोशिश करता हु की आप इसको जान पाओगे और इससे बचने की कोशिश भी करोगे ।
तो चलिए हम शुरुआत करते है सबसे पहले की रेडियशन क्या है ?
संछिप्त में रेडियशन एक प्रकार की ऊर्जा है जो अंतरिक्ष में तरंगो या कणो के रूप में यात्रा कर रही है ओर यह नियमित रूप से हमारे आसपास रहता हे । हम इसी के साथ विकसित हुए हे ।और यहाँ तक की हम रोजाना इसके सम्पर्क में ही रहते हे। हम एक रेडियोधर्मी ग्रह पर है और सभी रेडियोधर्मी होते है ।विकिरण के बिना हम यह जानते हैं कि यह जीवन अस्तित्व में नहीं होगा।
मोबाइल रेडियशन क्या है?और इसके होने के कारण ?
हमारे मोबाइल फ़ोन से विद्युत चुम्बकीय (इलेक्ट्रो मैग्नेटिक्स ) रेडियशन  उत्त्पन्न होता है ।यह मोबाइल में मौजूद है क्योंकि यह  कॉल करने और कॉल प्राप्त करने के लिए रेडियो फ्रीक्वेंसी (आरएफ) तरंगों का उपयोग करते हैं।मोबाइल फोन के रेडियशन छमता को बहुत छोटा माना जाता है क्योंकि उत्सर्जन की सीमा कम  है लेकिन दुनिया भर में मोबाइल फोन के उपयोग में भारी वृद्धि के परिणामस्वरूप मानव स्वास्थ्य पर मोबाइल फोन रेडियशन का प्रभाव लगातार बढ़ता जा रहा है , आजकल लगभग सभी मोबाइल सिम कंपनिया अपने नेटवर्क के विस्तार के लिए नए  नए मोबाइल टावर लगातार लगा रही है जो भी मोबाइल रेडियशन बढ़ने का अहम कारण है ।मोबाइल फोन का नियमित उपयोग से मानव मस्तिष्क के ऊतकों को गर्मी और कोशिकाओं पर बुरा प्रभाव पड़ता है। मोबाइल फोन माइक्रोवेव सीमा (450-2100 मेगाहर्ट्ज) में इलेक्ट्रो मैग्नेटिक्स रेडियशन   का उपयोग करते हैं अन्य डिजिटल वायरलेस सिस्टम, जैसे डेटा संचार नेटवर्क, समान विकिरण का उत्पादन करते हैं, संभावित रेडिएशन के उपभोक्ताओं को चेतावनी देने के लिए मोबाइल फोन कंपनियों ने पहले ही फोन मैनुअल का उपयोग किया है। अधिकांश प्रदाता वर्षों से ऐसा कर रहे हैं। वे कम से कम विकिरण स्तर रखने के लिए सुझाव और संकेत देते हैं
एक शोध के मुताबित वर्ष  2015 तक, दुनिया भर में 7.4 बिलियन सदस्यताएं थीं,और अकेले भारत में वर्ष  2016 तक 1.127 बिलियन सदस्यताएं थीं जो दुनिया भर में सबसे ज्यादा है हालांकि उपयोगकर्ताओं की वास्तविक संख्या कम है क्योंकि कई उपयोगकर्ता एक से अधिक मोबाइल फोन के मालिक हैं।डॉक्टर डेविड कार्पेन्टर, स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ स्टेट यूनिवर्सिटी ऑफ़ न्यूयॉर्क में डीन का कहना है कि सभी बचपन के कैंसर का 30% ईएमएफ एक्सपोजर के साथ जुड़ा हुआ है। यूनाइटेड किंगडम के डॉक्टरों ने चेतावनी जारी की है कि 16 साल से कम उम्र के बच्चों को सेल फोन का इस्तेमाल न करने की चेतावनी दी गई है। तीव्र छमता वाली तरंगों में मानव में ब्लेड प्रेशर बढ़ जाता है,जिसके कारण मस्तिष्क में तनाव के कारण के नई नई बीमारिया होने लगती है। इसमें कोई दोहराय नहीं है कि मोबाइल फोन के अधिक उपयोग से मस्तिष्क कैंसर या अन्य सिर ट्यूमर होने का खतरा बढ़ जाता है।
मैंने  इस पेज में हानिकाक इलेक्ट्रो मैग्नेटिक रेडिएशन के बारे में आपको कुछ बताने के लिए रेडिएशन  के कारण मोबाइल फोन से जुड़े आपकी सेहत के कई हानिकाक खतरों से संबंधित दुनिया भर में किए गए विभिन्न अध्ययनों से उपयोगी जानकारी इक्क्ठा करके यह पेज तैयार किया है। आजकल दुनिया भर में कई शोधकर्ता इसके उपर काफी रिसर्च कर रहे है। काफी शोध के बाद शोधकर्ताऔ ने यह  पाया है कि कुछ धरती खनिजों में रेडिएशन को सफलतापूर्वक हल करने और मोबाइल फोन के हीट को कम करने की क्षमता है। आजकल कई कंपनियों ने कई एंटी रेडिएशन चिप (एंटी रेडिएशन डिवाइस ) बना रही है अब ये कितना मददगार होता है इसका तो  रिजल्ट के बाद ही पता चलेगा ।विश्व प्रसिद्ध इलेक्ट्रॉनिक मापन और उपकरणों परीक्षण प्रयोगशाला  कैलिफोर्निया संस्थान के इलेक्ट्रॉनिक्स और सामग्री विज्ञान (इम्स) कैलिफ़ोर्निया, USAद्वारा प्रमाणित है 9.95% की आवृत्ति 9.375 GHZपर परीक्षण के दौरान 99.95% की विद्युतचुंबकीय परिरक्षण प्रभावशीलता रखने के लिए है , वर्तमान में नवीनतम जीएसएम और सीडीएमए फोन 2100 मेगाहर्टज (2.1 गीगाहर्ट्ज) के अधिकतम आवृत्ति पर काम कर रहे हैं, जबकि Radisafe(एंटी रेडिएशन चिप )को 9.375 GHZकी आवृत्ति पर भी रेडिएशन का परीक्षण करने के लिए परीक्षण किया गया है। जब RADISAFE मोबाइल फोन के पीछे की तरफ लगाने से यह तुरंत शील्ड रेडिएशन शुरू होता है और मोबाइल फोन के हीटिंग को कम करता है ।यह मेरी  इच्छा है कि प्रत्येक व्यक्ति को इस पेज के माध्यम से खुद को मोबाइल फोन के रेडिएशन के खतरों के बारे में जानना चाहिए और फिर सोच समझ  कर  निर्णय लेना चाहिए कि खुद को बचाने के लिए क्या और कैसे करे |
मोबाइल फोन के रेडिएशन को कम करने के प्रमुख उपाय
1. एक शोध में यह पाया गया है की अगर आप अपने फ़ोन को अपने सिर से 20 सेंटीमीटर दूर करने से फोन में लगभग 9 8% तक रेडिएशन  की मात्रा में कमी आती है। तो आज से बिस्तर पर जाने के दौरान मोबाइल फोन को अपने तकिया के नीचे रखने की बजाय, एक बेडसाइड टेबल पर फोन रखे ।
2. अपने फ़ोन से सीधा कान से लगाकर बात करने के तरीके को बदले अगर आप तार (वायर ) वाली इयर लीड से बात करते हो तो  ये काफी अच्छा साबित होगा ।
3. लिफ्ट, कार, गाड़ियों या विमानों में अपने मोबाइल फोन का उपयोग न करें। मोबाइल फ़ोन अधिक शक्ति लेते हैं, और साथ लगी धातु स्थानों में अधिक विकिरण का रेडिएशन करते हैं।
4. जितना भी संभव हो कॉल करने के बजाय टेक्स्ट करे जो की आपके शरीर के लिए बेहतर है।
5. अगर आपके घर या अपार्टमेंट में एक वायरलेस राउटर,वाई-फाई  है, तो इसे थोड़ा-प्रयोग वाले कमरे और बेडरूम से बाहर रखें (या इसे पूरी तरह से रात में बंद कर दें)। यथासंभव अपने बेडरूम को इलेक्ट्रॉनिक विकिरण से मुक्त रखने का प्रयास करें। रूटर के अलावा, सेल फोन, वायरलेस फोन और कंप्यूटर को हटा दें ।
6. अगर आप अपने मोबाइल फ़ोन से ज्यादा लम्बी अवधि तक बाते करते है तो कृपया करके जितना हो सके कम करने की कोशिश करे यदि उपलब्ध हो तो एक कॉर्डेड लैंडलाइन फोन का उपयोग करें और लंबी बातचीत के लिए ताररहित फोन का उपयोग न करें।
7. बच्चों के साथ फ़ोन का उपयोग कम से कम करें क्योंकि एक बच्चे का शरीर अभी से ही  विकसित हो रहा है और सेल फोन रेडिएशन एक वयस्क के मस्तिष्क की तुलना में अधिक गहराई से एक बच्चे के मस्तिष्क में प्रवेश करती है।
8. जब आप कॉल करते हो तो कान से लगाने के लिए तक प्रतीक्षा करे जब तक की आपका कॉल शुरू हो जाये,क्योंकि  प्रारंभिक कनेक्शन के दौरान फ़ोन सबसे तीव्र रेडिएशन का उत्सर्जन करता है, फिर कॉल शुरू  के बाद अपनी शक्ति को कम करता है।
9. अगर सम्भव हो तो जब आप फ़ोन का उपयोग नही कर रहे हो तो हवाई जहाज मोड का उपयोग करें या अपने सेल फ़ोन को बंद करें ।
10. इसके साथ और भी कई ऐसे उपाय है जिनसे की आप अपने आप और अपने चाहनेवालो को सुरक्षित कर सकते हैं|
( लेखक कर्मपाल प्रजापत गुरुग्राम में एक सॉफ्टवेयर कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर के पद पर कार्यरत हैं)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY