दिल्ली की कवयित्री नीलू ‘नीलपरी’ का संग्रह ‘नीले अक्स’ मेरठ में सम्मानित

0
79

IMG_20170511_094546

मेरठ शहर की सुप्रसिद्ध संस्था ‘कादम्बरी-प्रकाश फाउण्डेशन’ द्वारा दिनांक 10 मई 2017 को क्रान्ति गीत सन्ध्या एवम् कादम्बरी साहित्य सम्मान का भव्य आयोजन किया गया।
FB_IMG_1494515422585
उत्तर प्रदेश की जानी मानी हस्तियाँ इस कार्यक्रम में उपस्थित रहीं।  संस्था के द्वारा 5 रचनाकारों को अपने उत्दिकृष्ट लेखन के लिए सम्मानित किया गया जिसमें 4 उत्तर प्रदेश से और एक दिल्ली से। दिल्ली की कवयित्री ‘नीलू नीलपरी’ को उनके आने वाले काव्य संग्रह ‘नीले अक्स’ के लिए ‘कादम्बरी साहित्य सम्मान’ से सम्मानित किया गया। मेरठ के विधायक, DIG, AIS अधिकारीऔर संस्था की संरक्षिका वंदना शर्मा जी और संस्था के अध्यक्ष डॉ नील कमल शर्मा जी के करकमलों द्वारा शाल ओढ़ाकर स्मृतिचिन्ह प्रदान किया गया।
क्रांति गीत संध्या का कार्यक्रम देश के वीर सपूतों को समर्पित गीत, कविता और ग़ज़लों से सुसज्जित था। उत्तर प्रदेश के विभिन्न शहरों से रचनाकारों ने शिरकत की थी।  नीलू ‘नीलपरी’ ने भी मेरठ क्रांति पर निम्न कविता सुनाकर समा बाँधा..
मेरठ क्रांति
~~~~~~
मेरठ छावनी की अट्टालिकाएं
गूँज रही हैं चीखों से
10 मई सन् सतावन को
विद्रोह की चिंगारी भड़की
गौमाता की चर्बी लगे कारतूसों से
सारे देश में फैली क्रान्ति
मेरठ क्रान्ति बनी सरगना
कोतवाल धन सिंह गुर्जर जब सरदार बने
जेलखाने को तोड़ कैदी सब रिहा किये
अंग्रेज अफसरों को मौत के घाट उतार
मेरठ के क्रांतिकारी दिल्ली को कूच किये
दिल्ली पर हुआ साम्राज्य
बहादुर शाह ज़फ़र सम्राट हुए
क्रांतिकारियों की लाशें अंग्रेजों ने
भैंसाली तालाब में डाली थी
तालाब को पाट बने 100 फुटा स्मारक का
सफेद संगमरमर वीरों की शहादत
और अंग्रेजों के ज़ुल्मों का है, साक्षी
कमिशनरी चौक, मेरठ में बनी
वीर गुर्जर की प्रतिमा सुनाती
वीरता की है, अनूठी कहानी
एक दिन का विजय पर्व नहीं आज़ादी
हर दिन, हर पल, हर घड़ी
भारत माँ के वीर सपूतों को
मैं ‘नीलपरी’ समर्पित करती हूँ
‘जय जवान जय किसान’
नारे की सार्थकता को नतमस्तक हो
श्रद्धासुमन अर्पित करती हूँ
तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आज़ादी दूंगा
की तर्ज़ पर आवाहन करती हूँ
माँ के ताज कश्मीर की हिफाज़त की
देशवासियों तुमसे अर्ज़ मैं करती हूँ
आज वक़्त है फिर से आन पड़ा
आज वक़्त है फिर से आन पड़ा
उठो जवानों कमर कस आगे बढ़ें
माँ भारती मांग रही कुर्बानी
लिपट तिरंगे में दोस्तों
वीरता का गुणगान करें
वीरता का गुणगान करें
जय हिन्द….!

LEAVE A REPLY