पहली बार (गीत) -दीप्ति सिंह

0
24

मौसम की वो पहली बारिश   2015-04-17

तुमसे जिंदगी की पहली मुलाकात

तुम्हें वो पहली बार देखकर

वो तुम्हे देखते ही रहने वाला एहसास

तुमसे पहली नज़र का पहला प्यार

मेरे दिल का तेरे लिए इकरार

वो पहली बार जलन का एहसास

तुझे छूने का हक़ क्यों है बूंदो के पास

तेरा वो पलट कर भीगीं पलकों से देखना

उन पलकों की बूंदों में मेरा भीगना

वो तुझे महसूस करना खुद में

खुद को तेरी आँखों में भूल जाना

मेरे शब्दों में तेरी परछाई आज भी है

फिर मिलने की तमन्ना दिल में कही जिन्दा आज भी है

 

 

 दीप्ति सिंह

LEAVE A REPLY