संकल्प पर्व का आयोजन

0
139

Untitled 2
संस्कृति मंत्रालय के निर्देशानुसार संकल्प पर्व के अवसर पर दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी के कर्मचारियों तथा अधिकारियों द्वारा दि. प. ला की शाखा सरोजिनी नगर में आज दिनांक 29-06-2020 को 5  वृक्ष (पीपल-2, बरगद- 1, आँवला -1 तथा अशोक-1)  वरिष्ठ पुस्तकालय एवं सूचना अधिकारी श्री आर.के. मीना जी तथा सहायक पुस्तकालय एवं सूचना अधिकारी श्रीमती जस्मोहन कौर सहित अन्य कर्मचारियों की उपस्थिति में लगाए गए I
साथ ही, संकल्प पर्व के अवसर पर दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी द्वारा निम्नलिखित शाखाओं में पाँच – पाँच  वृक्ष लगाए जायेंगे I

 29  जून 2020 सरोजिनी नगर
1 जुलाई 2020 मुख्यालय (चांदनी चौंक )
2 जुलाई 2020 कादीपुर
3 जुलाई 2020 जनकपुरी
4  जुलाई 2020 बवाना
6 जुलाई 2020 तिहाड़ जेल
7 जुलाई 2020 विनोबा पूरी
8  जुलाई 2020 नरेला
9  जुलाई 2020 कटेवड़ा
10  जुलाई 2020 अशोक विहार
11 जुलाई 2020 बाग़ खड़े खान

इस अवसर पर “मानव जीवन में वृक्षो का महत्तव” विषय पर वीडियो चर्चा का भी आज दिनांक 29-06-2020 को आयोजन किया गया जिसकी अध्यक्षता डॉ. रामशरण गौड़, अध्यक्ष, दिल्ली लाइब्रेरी बोर्ड द्वारा की गई तथा डॉ. राजीव श्रीवास्तव, पूर्व प्रधान मुख्य वन संरक्षण, वन विभाग, तमिल नाडू सरकार वक्ता के रूप में उपस्थित रहे ।

डॉ. राजीव श्रीवास्तव ने वृक्षों को ऑक्सीजन की फैक्ट्री बताते हुए कहा कि ये मनुष्य के जीवन के उस आधार का संचार करते हैं जिसके लिए रोगियों को वेंटिलेटर का सहारा लेना पड़ता है । अगर हम समय पर जागरूक हो जाए वृक्षों की देखभाल करें, नए वृक्ष लगाए तो हम भविष्य में उत्पन्न होने वाली कोरोना जैसी आपदाओं को नियंत्रित कर सकते हैं । उन्होंने श्रोताओं को वृक्षारोपण करने की अनेक विधियों, उनके रखरखाव आदि पर भी वृस्तृत रूप से चर्चा की। उन्होंने दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी द्वारा पर्यावरण संरक्षण एवं वृक्षारोपण हेतु कार्यक्रम भविष्य में भी करते रहने का आग्रह किया ।

डॉ. रामशरण गौड़ ने वृक्षों के साथ जुड़ी हमारी धार्मिक मान्यताओं को बताते हुए उनके प्रकृति तथा मानव जीवन को स्वस्थ बनाये रखने में योगदान पर चर्चा की । उन्होंने श्रोताओं को बताया कि पीपल के पेड़ को धर्मशास्त्रों में सबसे ज्यादा महत्त्व दिया गया है साथ ही उन्होंने आँवला, अशोक तथा बेल के अलौकिक महत्त्वों का भी बखान किया । उन्होंने आयुर्वेद में वृक्षों के अतुल्य योगदान के विषय में भी श्रोताओं को बताया साथ ही साथ, उन्होंने जैविक खाद बनाने की विधि श्रोताओं से साँझा की।

अंत में श्री आर. के. मीणा, वरिष्ठ पुस्तकालय एवं सूचना अधिकारी, दि.प.ला. द्वारा धन्यवाद ज्ञापन के साथ कार्यक्रम का समापन किया गया ।

LEAVE A REPLY