उड़न-तश्तरी

0
50
Sushant Supriye
— सुशांत सुप्रिय
बात तब की है जब वह दस साल का था और चाचाचाची के यहाँ मंदिर मार्ग पर बने उनके सरकारी फ़्लैट में गर्मी की छुट्टियाँ बिताने आया था  चूँकि वह दोपहर में खूब सो लेता था , इसलिए रात का खाना खाने के बाद बारहएक बजे तक आसपास घूमनेटहलने की छूटउसने चाचाचाची से ले रखी थी  एक रात वह घूमतेफिरते बिड़ला मंदिर के पीछे ‘ रिज ‘ के जंगल में जा निकला था  दरअसल वह बचपन से ही निडर था  भूतप्रेतों के क़िस्से भी उसे नहीं डरा पाते थे  अकसर वह वीरान पगडंडियों पर अकेले ही घूमने निकल जाता था 
उस रात भी यही हुआ था जब उसने पहली बार उस विशाल उड़नतश्तरी को देखा था — पूर्णिमा की रात में चमकती हुई , बिड़ला मंदिर से भी दस गुना ऊँची , विशाल और भव्य  हैरानी की बात यह थी कि उसके उड़ने से कोई शोर नहीं हो रहा था , बल्कि रात का सन्नाटाऔर गहरा हो गया था  झींगुरों ने भी अपना गीत गाना बंद कर दिया था , और पहली बार वह अपने दिल की धड़कनें गिन सकता था  आकाश जैसे तारों के बोझ से नीचे झुक आया था  समय जैसे ठिठक कर वहीं रुक गया था  पर कुछ देर हवा में टँगी रह कर वह उड़नतश्तरी ग़ायब हो गई थी — उसे मंत्रमुग्ध छोड़ कर 
वह अगली रात फिर वहाँ आया , लेकिन उस रात उसे वह उड़नतश्तरी नज़र नहीं आई  उसने भी हार नहीं मानी और वह उसकी खोज में हर रात वहाँ आने लगा — ‘ रिज ‘ के जंगल में , साँपबिच्छुओं और बंदरों की परवाह नहीं करता हुआ  वह जैसे एक आदिम आकर्षणसे खिंच कर वहाँ चला आता , और आख़िर अगली पूर्णिमा की रात में वह उड़नतश्तरी उसे फिर नज़र आई थी  वह उतनी ही विशाल और भव्य थी और उसके आने में एक शोरहीन तेज़ी थी  उस घनी रात में थोड़ी देर आकाश में मँडरा कर वह ग़ायब हो गई थी — उसेरोमांच से सिहरता हुआ छोड़ कर 
जब कई पूर्णिमा की रातों में उसने उस उड़नतश्तरी को देखा , तब एक दिन उसने खाने की मेज़ पर चाचाचाची को उसका रहस्य बताना चाहा  पर उन्होंने उसकी बात को मानने से इंकार कर दिया  बल्कि चाची को थोड़ी फ़िक्र भी हुई कि कहीं लड़के का दिमाग़ तो नहींखिसक गया जो यूँ बहकीबहकी बातें कर रहा है  चाचाजी ने भी पूछा, ” क्या इन दिनों कॉमिक्स ज़्यादा पढ़ रहे हो ? ” चाची ने तो यह भी कहा कि कि रातबिरात जंगलबियाबान में घूमने से सिर पर भूतप्रेत और जिन्नचुडैल चढ़ जाते हैं  इस पर चाचाजी हँस दिए औरबात आईगई हो गई  पर उसने उड़नतश्तरी की खोज में ‘रिज‘ के जंगल में जाना नहीं छोड़ा 
अगली बार पूर्णिमा वाली रात वह कॉलोनी में कपड़े इस्त्री करने वाले के छह साल के बेटे रमुआ को भी अपने साथ ले गया  इस बार वह उड़नतश्तरी उन दोनों को नज़र आई  वे दोनों चिल्ला कर हाथ हिलाते हुए उसकी ओर भागने लगे  रमुआ हैरानी से पूछने लगा किआसमान में लटकी वह इत्ती बड़ी चमकीली , गोल चीज़ क्या है ? तभी , हवा में टँगे उस विशाल यान का दरवाज़ा अचानक खुला और उन दोनों के मुँह भी खुलेकेखुले रह गए  दरअसल यान के भीतर से कुछ अजीब से जीव उड़नतश्तरी की बाल्कनीनुमा जगह पर  खड़ेहुए  हालाँकि उसके मुँह से ‘बाप रे‘ निकल गया पर वह बिल्कुल नहीं डरा  उसने उनकी ओर हाथ हिलाया और जवाब में उन जीवों ने भी अपने शरीर का हाथनुमा अंग हिलाया  उसे लगा जैसे दुनिया रुक गई हो और अब कोई यह दृश्य नहीं बदलेगा  वह घास पर लेट करबादलों को उड़ता देख रहे बच्चेसा खुश हो गया  लेकिन उसी पल रमुआ डर कर थरथर काँपने लगा  जब उसने रमुआ का हाथ पकड़ कर उसे दिलासा दिया तब जा कर वह कुछ ठीक हो पाया 
चाँदनी रात में उसने पहली बार उन जीवों की ओर ध्यान से देखा और पाया कि वे सभी बिलकुल काले थे — रात से भी ज़्यादा काले , इतने काले कि कालापन भी शर्मा जाए  उस पल उसे एक असीम ख़ुशी महसूस हुई , क्योंकि उसका अपना रंग भी काला था , हालाँकि उसकेदूसरे भाईबहन गोरेचिट्टे थे  शायद इसीलिए उसे दादी उतना प्यार नहीं करती थी जितना उसके और भाईबहनों को  इससे कभीकभी उसमें हीनता की भावना  जाती थी  पर उस रात उन काले जीवों को उड़नतश्तरी उड़ाता देख कर वह बेहद खुश हुआ  उन जीवों मेंकोई भी गोरा नहीं था  वे जीव उसके लिए प्रेरणास्रोत बन गए  बड़ेबड़े काम करना केवल गोरे लोगों की बपौती नहीं है , यह बात उसे समझ में  गई  उसी पल वह यह भी समझ गया कि केवल गोरा होने से कुछ नहीं होता  असली बात तो इंसान के भीतर की क्षमता मेंहै  वह जान गया कि काले लोग भी प्रतिभाशाली होते हैं  तभी तो ये काले जीव उड़नतश्तरी जैसी चीज़ बना और उड़ा पाए  यह सब सोच कर उसे हौसला मिला 
पर उसी समय रमुआ  जाने क्यों डर कर रोने लगा  तब पल के सौवें हिस्से से भी कम समय में वह उड़नतश्तरी ग़ायब हो गई और उसे अफ़सोस हुआ कि वह उस पल को कभी  बीतने वाला नहीं बना पाया  रमुआ रो रहा था और उन दोनों में उम्र में वह रमुआ से बड़ा था इसलिए उसने रमुआ को चुप कराया और वे वापस लौट आए 
अगले दिन हिम्मत करके उसने फिर चाचाचाची को उड़नतश्तरी की घटना विस्तार से बताई , पर उसकी बात सुन कर इस बार चाचा भी चिंतित हो उठे  उन्होंने ज़ोर दे कर कहा कि उसने ज़रूर कोई सपना देखा होगा  पर वह जानता था कि वह सब सपना क़तई नहीं था उसने अपनी बात दोहराई और चाचा जी को बताया कि वह उड़नतश्तरी केवल पूर्णिमा वाली रात में ही दिखाई देती है  हालाँकि इस बारे में वह कुछ नहीं बता पाया कि ऐसा क्यों था  यह सुन कर चाचा ने कहा कि उड़नतश्तरीवश्तरी कुछ नहीं होती , और उन्होंने ज़रूरकोई हेलिकॉप्टर या हवाई जहाज़ देख लिया होगा  लेकिन वह जानता था कि ऐसा नहीं था , कि वह उड़नतश्तरी एक हक़ीक़त थी 
अगली पूर्णिमा वाले दिन उसने चाचाजी से फिर बात की और उसकी ग़लतफ़हमी दूर करने के लिए रात में चाचाजी उसके साथ स्वयं चल दिए  लेकिन वह ग़लतफ़हमी नहीं थी बल्कि एक ठोस सच्चाई थी , क्योंकि अचानक वह उड़नतश्तरी उसे फिर नज़र आई — उतनी हीविशाल और भव्य  रोमांच से उसकी देह में फिर सिहरन होने लगी और उसे लगा जैसे धरती साँस रोक कर यह नज़ारा देख रही हो  उसने चाचाजी को उड़नतश्तरी दिखानी चाही पर उन्हें कुछ भी दिखाई नहीं दिया , हालाँकि रमुआ , जो इस बार भी उनके साथ था , उसउड़नतश्तरी को साफ़साफ़ देख पा रहा था  वह इस अजूबे पर हैरान हुआ कि जो चीज़ उन बच्चों को बिलकुल साफ़ दिखाई दे रही थी , वह उसके चाचा को क्यों नहीं दिख पा रही थी  पर उसी समय चाचाजी ने उसे डाँट कर कहा कि कहीं कोई उड़नतश्तरी नहीं थी  वे सभीचुपचाप लौट आए थे , हालाँकि इस रहस्य का पता लगाने चाचाचाची और रमुआ का बाप अगली पूर्णिमा की रात भी उन बच्चों के साथ दोबारा ‘ रिज ‘ के जंगल में गए  पर उस बार भी बड़े लोगों को वह उड़नतश्तरी नहीं दिखी , जबकि बच्चों को वह साफ़ नज़र  रही थी
जब वह बड़ा हुआ तो उसने खुद ही इस पहेली का हल निकाल लिया , जो यह था : बच्चे सच्चाई का प्रतीक होते हैं  वे निर्मल और निष्कलंक होते हैं  वे छलप्रपंच से दूर होते हैं और मासूम होते हैं  उनकी दुनिया बेहद सहज और पारदर्शी होती है  दूसरी ओर बड़े लोगअक्सर पाखण्डी , अवसरवादी , झूठे और दग़ाबाज़ होते हैं  उनकी दुनिया बेहद कृत्रिम और मुखौटों से भरी होती है  वह इस नतीजे पर पहुँचा कि वह उड़नतश्तरी केवल सच्चे और मासूम बच्चों को ही दिखाई देती थी  उसकी यह धारणा इस बात से भी पुष्ट हो गई किपाँचछह साल बाद जब वह दोबारा चाचाचाची के पास आया और पूर्णिमा की रात में उसने दोबारा उस उड़नतश्तरी को ढूँढ़ना चाहा तो उसे वह दोबारा दिखाई नहीं दी  वह समझ गया कि अब वह बड़ा हो चुका था और अपने बचपन की मासूमियत खो चुका था 
कॉलेज में जब उसकी दोस्ती मुझ से हुई तो उसने यह बात मुझे भी बताई  लेकिन मैं उस पर हँसा नहीं और  ही मैंने उसका मज़ाक उड़ाया  मैंने उसकी आँखों में झाँक कर देखा  मुझे उसमें सच्चाई जैसा कुछ नज़र आया  इसलिए एक पूर्णिमा की रात मैं , मेरी दीदी औरजीजाजी , उनका पाँच साल का बेटा और वह — मेरा दोस्त , हम सभी बिड़ला मंदिर के पीछे वाले ‘रिज‘ के जंगल में
उसकी बताई जगह पर पहुँचे  उसकी धारणा तब सही निकली जब मेरी दीदी का बेटा उड़नतश्तरी को देखकर ख़ुशी से किलकने लगा और अपने नन्हेंनन्हें हाथ उसकी ओर हिलाने लगा , जबकि हम बड़ों को वह उड़नतश्तरी कहीं दिखाई नहीं
दी  तब हम जान गए कि वह वहाँ है क्योंकि छोटे बच्चे झूठ नहीं बोलते और यह सच है 
पर यदि आपके मन में इस बात को ले कर शंका हो और आप यह सोच रहे हों कि यह सब कोरी कल्पना है , मनगढ़ंत बातें हैं , तो मेरी बात पर बिलकुल यक़ीन मत कीजिए  आप अपने छोटे बच्चे को ले कर बिड़ला मंदिर के पीछे वाले ‘रिज‘ के जंगल में पूर्णिमा की रात मेंजाइए  वहाँ आपका बच्चा आपको स्वयं बता देगा — ” पापा , वह देखो , कित्ता बड़ा उड़ने वाला गोला ! ” तब आपको वाकई अफ़सोस होगा कि काश आप भी छोटे बच्चे होते और पूर्णिमा की रात में आप भी उस उड़नतश्तरी को देख पाते — बिड़ला मंदिर से भी दस गुनाऊँची , विशाल और भव्य , अपने भीतर एक समूची रहस्यमयी दुनिया समेटे हुए 
————————
प्रेषकः सुशांत सुप्रिय

LEAVE A REPLY