यूनाइटेड टीचर्स एसोसिएशन के (यूटा) के नेतृत्व में किया गया महायज्ञ का आयोजन

0
81

20181111_122845
कासगंज जनपद के सोरों गेट स्थित बी0 आर0 सी0 कार्यालय के प्रांगण में यूनाइटेड टीचर्स एसोसिएशन के (यूटा) के नेतृत्व में पुरानी पेंशन बहाली के लिए सरकार और प्रशासन में बैठे जिम्मेदार और नीति नियंताओ के लिए बुद्धि शुद्धि महायज्ञ का आयोजन किया गया। यज्ञ में पुरोहित का काम संस्कृताचार्य रामपाल शास्त्री जी ने किया। वेद मंत्रों के उच्चारण के साथ देशी घी, समिधा, मिष्ठान और सुगंधित सामिग्री  अग्निदेव को समर्पण किए गए। गायत्री और महामृत्युंजय मंत्रोच्चार कर भी आहूतियां दी गईं।  यज्ञ समारोह प्रारम्भ होने से पूर्व वरिष्ठ उपाध्यक्ष हरिनन्दन और कोषाध्यक्ष यादराम ने सभी शिक्षक एवं कर्मचारी बंधुओं का पुष्पमालाएं पहनाकर अभिनंदन किया। महामंत्री डॉ0 मनोज बघेल ने समस्त आगंतुकों के मस्तक पर रोली चावल का तिलक लगाया। जिलाध्यक्ष नरेन्द्र कुमार वर्मा ने यज्ञ में आहूति देने वाले सभी पेंशन विहीन साथियों की कलाई में कलावा बांध कर पेंशन की लड़ाई को मजबूत करने का संकल्प लिया। मंत्रोच्चार से पूरा बी0 आर0 सी0 प्रांगण गूंज रहा था। वायु  द्वारा सुगंधित होकर पेंशनविहीन शिक्षक और कर्मचारियों की मांग सरकार और शासन तक पहुंच रही थी। आरती के साथ यज्ञ समाप्त हुआ। यज्ञ समाप्ति के बाद एक सभा का आयोजन हुआ जिसमें पुरानी पेंशन बहाली हेतु किए जा रहे संगठन के प्रयासों पर चर्चा की गई। बैठक का संचालन धनंजय प्रताप सिंह लोधी ने किया। राकेश राजपूत ने कहा कि यज्ञ के माध्यम से प्राचीन समय में देवताओं तक ऋषि मुनि और राजा महाराजा अपनी मांगे पहुंचाया करते थे, यूटा ने आज उसी परंपरा को जीवंत करते हुए इस यज्ञ का आयोजन किया है, चूंकि हमारे साथियों ने सच्चे और एकाग्र मन से यज्ञ में आहूतियां दीं है इसलिए हमारी मांग नीति नियंताओं के कानों तक अवश्य पहुंचेगी। यज्ञ से उनकी बुध्दि अवश्य शुद्ध होगी और पुरानी पेंशन बहाल होगी। अमांपुर से पधारे अबधेश राजपूत ने कहा कि पुरानी पेंशन की लड़ाई विभिन्न संगठनों के द्वारा विभिन्न विभिन्न तरीकों से लड़ी जा रही है। उद्देश्य सभी का एक ही है। यज्ञ सरकार को जगाने का अच्छा माध्यम है। ईश्वर में आस्था हर प्राणी रखता है, जब इंसान की बात इंसान न समझ पाए तब इंसान को ईश्वरीय सहारा लेना पड़ता है, यूटा ने सरकार और सरकार में ऊंचे ऊंचे पदों पर बैठे लोगों की कुम्भकर्णी नींद तोड़ने के लिए ये जो बुद्धि शुद्धि महायज्ञ का आयोजन किया है, प्रसंसनीय है। दुष्यंत चौहान ने कहा कि सरकार और कर्मचारी एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। दोनों के समन्वय से ही देश और प्रदेश  प्रगति के रथ पर अग्रसर होते हैं। अगर कर्मचारी परेशान रहेगा तो देश का विकास प्रभावित होना अवश्यम्भावी है। इसलिए पुरानी पेंशन की जायजमाँग सरकार को मान लेनी चाहिए। पटियाली, सिढ़पुरा, गंजडुंडवारा, सहावर, कासगंज एवं सोरों से शेखर गौर, विजय विक्रम पुंढीर, जयप्रकाश, दिनेश राजपूत, सुशील कुमार, मानवेंद्र यादव, रमन किशोर, अहिवरन सिंह, भूप सिंह, चन्द्रभान सिंह, रतन प्रकाश, सत्यनारायण, नरेंद्र राव आदित्य, डॉ0 देवेन्द्र शाक्य, गीतम सिंह, संजय कुमार, रोहताश राजपूत, सोमेंद्र सिंह, धर्मेन्द्र कुमार, अरविंद कुमार सिंह, भानु राजपूत, धर्मवीर शर्मा, डॉ0 अमित यादव, ब्रजेन्द्र कुमार, पूनम वर्मा, फुरकान अली, नितिन माहेश्वरी, सतीष बघेल एवं अमर सिंह आदि सैकड़ों पेंशनविहीन लोगों ने कार्यक्रम में सहभाग किया। राष्टगान के बाद कार्यक्रम का समापन किया गया।

नरेन्द्र मगन
ब्यूरो चीफ, कासगंज

LEAVE A REPLY