सत्यम उपाध्याय “भारत गौरव अवार्ड-2016” से सम्मानित किया गया

0
464

20161225_150225

गोल्डन बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकार्ड्स, असिस्ट वर्ल्ड रिकॉर्डस, वर्ल्डस रिकॉर्ड इंडिया के ख़िताब से सम्मानित डी.ए.वी पब्लिक स्कूल के छात्र सत्यम उपाध्याय को “भारत गौरव अवार्ड-2016” से सम्मानित किया गया. ‘यंगेस्ट प्रोफेशनल सिंगर’ ऑफ़ द वर्ल्ड सत्यम उपाध्याय अभी मात्र 12 वर्ष के हैं जहाँ बच्चे इस उम्र में खेल व् कूद मे व्यस्त रहते हैं वहां सत्यम गायन व वाद्य यन्त्र पर 5 से 6 घंटे रियाज़ करते हैं. सत्यम जब गीत गाते हैं तो दर्शक मंत्रमुग्ध हो झूम उठते हैं. यह हरियाणा के लिए बहुत ही गर्व की बात है कि सत्यम को पूर्व चीफ जस्टिस ऑफ़ इण्डिया के. जी. बालाकृष्णन ने अपने कर कमलों से “भारत गौरव पुरस्कार” से सम्मानित किया है .सत्यम लगातार दिल्ली व हरियाणा में कई स्तरीय कार्यक्रमों मे अपनी भागीदारी निभा चुके हैं. अभी हाल ही में दिल्ली ताल कटोरा में मो. रफ़ी संगीत समारोह “मेरी आवाज़ सुनो” कार्यक्रम में भारत गौरव रतन अवार्ड्स से सम्मानित संगीत के सरताज श्री पंकज उदास, श्री अगम कुमार निगम, श्री रविंदर सिंह, श्री दिलबाग सिंह, अनिल श्रीवास्तव, श्री प्रेम भाटिया, श्री भूपिंदर चावला, श्री सनी ठकराल, श्री कुमार विशु, श्री अमन निधि कोहली व् अनामिका जी के समक्ष अपने गीत प्रस्तुत किये. श्री पंकज उदास जी व् श्री अगम निगम निगम जी ने सत्यम पर अपना वरद हस्त रखा. सत्यम सभी का आशीर्वाद पाकर अपने आप को गौरवान्वित महसूस करते हैं. सत्यम की लगन व् मेहनत लगातार रंग ला रही है. सत्यम का कहना है कि संगीत ही उनका जीवन है वह अपने गुरु डॉ. अमन बाठला जी व् पंडित गीतेश मिश्रा जी के आशीर्वाद व् अपनी मेहनत द्वारा देश का नाम रोशन करना चाहते हैं. सत्यम उपाध्याय दूरदर्शन के प्रोग्राम सतरंगा बचपन, किड्ज आईलैंड, मेरी बात आदि में अपनी प्रस्तुति दे चुके हैं। इसके अतिरिक्त एफएम रेडियो मानव रचना, ऑल इण्डिया रेडियो एफएम- रेनबो में भी सत्यम उपाध्याय के इंटरव्यू का प्रसारण किया जा चुका है।20161225_152132

यू.एस. बेस ‘गोल्डन बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकार्ड्स’ संस्था ने सत्यम उपाध्याय को 19 फरवरी, 2016 को ‘यंगेस्ट प्रोफेशनल सिंगर’ के अंतर्गत विश्व रिकार्ड प्रमाण-पत्र व मेडल देकर सम्मानित किया था। सत्यम इफको कॉलोनी, गुडगाँव निवासी डॉ. सविता उपाध्याय एवं नरेन्द्र उपाध्याय के पुत्र हैं. सत्यम की माँ का कहना है कि सत्यम को बचपन से ही संगीत के प्रति बेहद लगाव रहा है वह प्रत्येक कार्य बड़े ही मनोयोग से करते हैं . उसकी कल्पनाशक्ति व् रचनात्मकता देखते ही बनती है. सत्यम अपने बड़े भैया शुभम उपाध्याय को अपना प्रेरणा स्तोत्र व् सबसे अच्छा मित्र मानते हैं उनका कहना है की भैया उनको पग- पग पर सही सलाह देकर उनका मनोबल बढ़ाते रहते हैं. सत्यम का कहना है कि उसे अपने विद्यालय के टीचर्स व प्रिंसिपल अपर्णा एर्री मैम का पूर्ण सहयोग व आशीर्वाद प्राप्त है.

LEAVE A REPLY