देश की बहादुर बेटी ने बुलंद हौसले

0
300

Screenshot_2017-10-15-13-17-49-96 (1)
हिमाचल प्रदेश के मनाली क्षेत्र की रहने वाली देश की बहादुर बेटी ने बुलंद हौसले को कायम रखते हुए समाज की बातों की परवाह न करते हुए यह जाँबाज बीस वर्षीय रवीना ठाकुर टैक्सी ड्राइवर का काम कर रही है | मीडिया से हुई बात में रवीना ने बताया,वैसे तो वह आर्मी में भर्ती होकर अपने देश की सेवा करना चाहती है | रवीना ने पिता की मृत्यु के बाद अपने घर की जिम्मेदारी उठा रखी है | वह बताती है शुरू में मेरे टैक्सी चलाने को लेकर सब लोगों ने इस बात का बहुत विरोध किया, समाज की बातों पर इस बीस वर्षीय रवीना ने मीडिया को निडरता से जवाब देते हुए कहां,मैं एक आजाद देश की नागरिक हूं ,देश के संविधान के अनुसार बालिग होते हुए मैं अपनी मर्जी से किसी तरह की मेहनत करने के लिए किसी की मोहताज नहीं हू | लोग बातें करते हैं ,लोग बातें करते रहेंगे,समाज की इन खोखली बातों से मेरे परिवार का पेट नहीं भरने वाला | पेट तो मेहनत मजदूरी करके ही भरेगा हमारी मीडिया की टीम इस देश की बहादुर जांबाज बेटी को सलाम करती है | हमेशा वही देश विकास कर सकता है | जिस देश में महिलाएं हर काम में बराबर का हक व हर काम को करने का जज्बा रखती हो | हमें और हमारे समाज को औरत के प्रति अपनी घटिया सोच को बदलना होगा | जब यह सोच बदल जाएगी, तो हमारे देश में विकास का जन्म अपने आप ही हो जाएगा | इसलिए जन-माता को तबज्जो मिले बिना (विकास) का जन्म कैसे संभव हो सकता है,विकास की प्रगति तो बहुत दूर की बात है | यहाँ पर हमारे समाज के कुछ चुनिंदा भर लोग एक प्रतिष्ठावान औरत को ( कुतिया ) का दर्जा देते हो | और फिर देश में विकास हो यह भी चाहते हैं | हर विकास-शील देश में नारी के सहयोग के बिना विकास की प्रगति असंभव है |

अनीता गुलेरिया

LEAVE A REPLY