टीवी9 भारतवर्ष के द्वारा फर्जी कथित स्टिंग के खिलाफ सीबीआई जांच की मांग

0
93

 udit raj

नई दिल्लीअप्रैल 2019, आज टीवी9 भारतवर्ष, जो 30 मार्च 2019 को लांच हुआ के  कथित स्टिंग ऑपरेशन के बारे में जानकर आश्चर्यचकित हुआ कि मेरी चर्चा को तोर-मरोड़ कर प्रस्तुतकिया गया | कथित स्टिंग ऑपरेशन 8 फरवरी 2019 का बताया जाता है, जब चैनल अस्तित्व में भी नही था | यह भी जानकर कष्ट पहुंचा कि इन्होने इस तरह 21 लोगों से गैर प्रोफेशनल तरीके सेनिजी स्तर पर चर्चा को कथित स्टिंग ऑपरेशन का रूप दिया | इससे गहरा मानसिक आघात पहुंचा है,  किसी के घर में सामान्य वार्तालाप को कथित स्टिंग या खबर प्रस्तुत करना न केवल निजी जीवनमें हस्तक्षेप है बल्कि मीडिया की नैतिक परंपरा के विरुद्ध है और न ही पत्रकारिता है | इनके इस कृत्य से स्पष्ट होता है कि चैनल चलाने के लिए ब्लैकमेलिंग, डकैती और छिना-झपटी जैसा व्यवहार कररहे हैं |  मैं औसतन प्रतिदिन लगभग 400-500 लोगों से मिलता हूँ | कथित स्टिंग करने वाले ने अपनी पहचान बदल कर अपने आपको कथित व्यापारी बताया और दैनिक वार्तालाप को  कथित स्टिंगऑपरेशन में परिवर्तित कर प्रस्तुत किया | मैंने अपने लोकसभा के विकास के लिए देश से ही नही बल्कि कई देशों से क़ानूनी रूप से आर्थिक मदद लेकर विभिन्न विकास कार्य किये जैसे शौंचालय-स्नानग्रह, कंप्यूटर स्मार्ट क्लास,  स्वच्छता अभियान के तहत सैकड़ों डस्टबिन, स्वच्छ पानी के लिए आरो प्लांट,12,000 महिलाओं को कौशल प्रशिक्षण एवं आदर्श ग्राम योजना के तहत दो गाँवों झीमरपुरा और खामपुर को खुले में शौंच से मुक्त इत्यादि कराये | इसके अतिरिक्त बुद्धा एजुकेशन फाउंडेशन(एनजीओ) के माध्यम से दलित उद्यमी(दलितों को व्यापार में प्रोत्साहन) के लिए 18 राज्योंका व्यापक सर्वे किया गया | जब छद्म वेशधारी पत्रकार कथित स्टिंग ऑपरेशन करने वालों ने संसदीय क्षेत्र के विकास कार्य में मदद की पेशकश करी तो मेरा जवाब था कि मेरे पास एनजीओ हैऔर 80G FCRA है मैं डोनेशन के माध्यम से क्षेत्र का विकास करता हूँ लेकिन आज के इनके कृत्य से स्थापित हो गया है कि इन्होने राजनैतिक प्रतिद्विन्धियों के माध्यम से साजिश के तहत मुझे औरमेरे पार्टी को बदनाम करने की कोशिश करी |

इस षड्यंत्र के पीछे राजनैतिक प्रतिद्विन्द्ता लगती है क्यों कि आदरणीय प्रधानमंत्री श्रीं नरेंद्र मोदी जी की कार्यशैली और भ्रष्टाचार के खिलाफ उनकी मुहीम है जो कि पूरी दुनिया जानती है औरसाथ ही मेरे कार्य करने के तरीके को इर्ष्या करते हुए इस कृत्य को अंजाम दिया गया है | मेरा कार्य क्षेत्र में बहुत सराहनीय है इसको देखते हुए एक बार सरोकार के लिए मुझे देश का सर्वश्रेष्ठ सांसद औरदूसरी बार बेजोड़ सांसद का पुरूस्कार मिला | जब मैं राजस्व विभाग में कार्यरत था तबसे ही मैं गरीबों और दलितों के अधिकारों के लिए कार्यरत रहा हूँ इसी वजह से स्वेच्छा से मैंने वर्ष 2003 मेंबाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर से प्रेरित होकर आगे का जीवन सामाजिक और राजनैतिक कार्यों में समर्पित करते हुए  अतिरिक्त आयकर आयुक्त के पद से इस्तीफा दे दिया |

निजी और अनौपचारिक वार्तालाप के दौरान क्षेत्र के व्यापारियों की बात की चर्चा करी, सन्दर्भ को न दिखा कर जीएसटी और नोटबंदी के ऊपर जो चर्चा हुई थी उसे सन्दर्भ से हटा ली गयी है |जबकि वह बात व्यापारियों की थी और अन्य किसी सन्दर्भ में थी | शब्दों को काटा गया है, और विडियो को देखने से प्रतीत होता है कि इस विडियो के साथ साफ़-साफ़ छेड़छाड़ किया गया है  अतः मैंयह भी आग्रह करता हूँ कि इस विडियो की फोरेंसिक जांच की जाये और इस पूरे मामले की जांच सीबीआई हो, जिससे इस षड्यंत्र के पीछे कौन-कौन है इसका भी पर्दाफाश हो सके |  इन चैनल के पीछेश्री हेमंत शर्मा, श्री विनोद कापरी एवं श्री अजित अंजुम हैं और श्री हेमंत शर्मा स्वयं मेडिकल कॉलेज के घोटाले के आरोप में संदिग्ध है | इस तरह से अन्य मामले में श्री विनोद कापरी भी संदिग्ध हैं |

मैं सरकार के सम्बंधित एजेंसियों से जांच की मांग करूँगा कि जो टीवी 9 भारतवर्ष के एडिटर, प्रमोटर्स और एजेंट है  इनके खिलाफ अनधिकृत रूप से घर में घुस कर के निजी जीवन के निजताके अधिकार का उल्लंघन, अबतक इस चैनल को स्थापित करने में कितना वित्त्तीय निवेश और उसका श्रोत, इनके द्वारा चैनल चलाने के लिए ब्लैकमेलिंग, धोखेबाज़ी, प्रतिष्ठा को हानि पहुँचाने आदि केखिलाफ कार्यवाही की जाये और तुरंत प्रभाव से इस खबर का प्रसारण बंद किया जाये और इस चैनल का लाइसेंस रद्द करने हेतु सम्बंधित विभाग से शिकायत दर्ज करूँगा | इसके साथ-साथ मैं जो भीक़ानूनी कार्यवाही बनती है उसे भी करूँगा |

LEAVE A REPLY