स्थापना के अमृत वर्ष के लिए लोगो हुआ जारी

0
57

WhatsApp Image 2022-07-19 at 5.03.41 PM 

26 जुलाई को हंसराज कॉलेज की स्थापना के अमृत महोत्सव के उद्घाटन समारोह में भारत के माननीय उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू मुख्य अतिथि होंगे। इस आशय की जानकारी हंसराज कॉलेज द्वारा आयोजित पत्रकार वार्ता में कॉलेज की प्राचार्या प्रो. रमा ने दी। उन्होंने कहा कि उपराष्ट्रपति जी के अतिरिक्त दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. योगेश सिंह, हंसराज कॉलेज प्रबंध समिति के अध्यक्ष पद्मश्री डॉ. पूनम सूरी एवं कोषाध्यक्ष डॉ. शिवरमन गौड़तथा अन्य गणमान्य अतिथि इस कार्यक्रम की शोभा बढ़ाएंगे।

26 जुलाई 2022 को हसंराज कॉलेज अपनी स्थापना के 75वें वर्ष में प्रवेश करने जा रहा है और इस अवसर पर वर्ष भर आयोजित होने वाले विविध कार्यक्रमों की शुरुआत 26 जुलाई को आयोजित होने वाले उद्घाटन समारोह के साथ होने जा रही है।दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रतिष्ठित हंसराज कॉलेज की स्थापना 26 जुलाई 1948 को डी.ए.वी.द्वारा की गई थी और इसके वर्तमान परिसर का उद्घाटन देश के प्रथम राष्ट्रपति देशरत्न डॉ. राजेंद्र प्रसाद जी के कर कमलों से हुआ था।इस कॉलेज के अनेक पूर्व विद्यार्थियों ने अलग-अलग क्षेत्रों में शीर्ष स्थानों पर पहुंच कर कॉलेज का नाम रौशन किया है जिनमें केंद्रीय मंत्री किरेन रिजूजू, गुजरात के पूर्व राज्यपाल ओम प्रकाश कोहली, सुपर स्टार शाहरुख़ खान, फ्लाइट लेफ्टीनेंट गुंजन सक्सेना, पद्मश्री तोमियो मिजोकामी (जापान), भारत के पूर्व सोलिसिटर जनरल गोपाल सुब्रह्मण्यम सहित भारतीय प्रशासनिक सेवा के अनेक अधिकारी तथा शिक्षा, सिनेमा, संस्कृति, मीडिया, राजनीति और ज्ञान-विज्ञान के विभिन्न क्षेत्रों के अनेक विद्वान-विशेषज्ञ शामिल हैं।

हंसराज कॉलेज द्वारा आयोजित इस प्रेस वार्ता में प्राचार्या ने बताया कि स्थापना के इस अमृत वर्ष में कॉलेज परिसर में महात्मा हंसराज की मूर्ति की स्थापना के साथ ही अनेक कार्यों, कार्यक्रमों एवं शैक्षिक तथा सांस्कृतिक गतिविधियों का आयोजन किया जाना है। इसके साथ ही वर्ष भर महात्मा हंसराज स्मृति व्याख्यानमाला का आयोजन किया जाएगा जिसमें देश दुनिया के शीर्षस्थ विद्वानों को आमंत्रित किया जाएगा। इसके साथ ही पर्यारण, महिला विकास, मानव संसाधन विकास, वेलनेस और रिहैबिलिटेशन जैसे विषयों पर कॉलेज में नए केन्द्रों की स्थापना की जाएगी।हंसराजकॉलेजअपनी स्थापना के 75 वें वर्ष में अपने पूर्वविद्यार्थियोंकेयोगदानकोरेखांकितकरतेहुए 75 पूर्व विद्यार्थियों को विशेष रूप से सम्मानित करेगा।

उन्होंने कहा की कॉलेजकेप्राध्यापकोंकेलिए 25 शोधपरियोजनाओंके लिए वित्तीय सहयोग प्रदान किया जाएगा, साथ ही कॉलेज के सभी विभागों, समितियों के सहयोग से 75 राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठियों, सम्मेलनों, कार्यशालाओं आदि का आयोजन किया जाएगा।इसके अतिरिक्त अनेकबड़े सांस्कृतिककार्यक्रमों, प्रतियोगिताओं, गतिविधियों का आयोजन भी किया जाएग। इसके साथ ही इस वर्ष अन्य कई कार्यक्रमों का आयोजन भी प्रस्तावित है जिनमें‘राष्ट्रीय एकता समागम’,‘राष्ट्रीय खेल समागम’, ‘पुस्तक मेला’,‘भारतीय भाषा सम्मेलन’आदि का आयोजन शामिल है। इस वर्ष कॉलेज में एक आकर्षक आर्ट गैलरी का निर्माण भी किया जाएगा तथा कॉलेजकी 75 वर्षोंकीयात्रासेसम्बंधितएकविशेष प्रदर्शनी लगाई जाएगी।अकादमिक, खेल एवं अन्य पाठ्येतर गतिविधियों की अलग-अलग श्रेणी में महात्मा हंसराज प्लेटिनम जुबिली छात्रवृति प्रदान की जाएगी।

पत्रकार वार्ता में कॉलेज की प्राचार्या प्रो. रमा ने यह भी बताया कि कॉलेज अपने विद्यार्थियों को बेहतर आधारभूत संरचना उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है और पिछले कुछ वर्षों में इस दिशा में तेजी से कार्य भी हुए हैं। इस वर्ष नएविज्ञानखंड, कैंटीन, शोध केंद्र आदि संरचनाओं का उद्घाटन भी किया जाना सुनिश्चित है।

उन्होंने यह भी कहा कि इस कॉलेज के पुस्तकालय, सभागार, एम्फीथियेटर,प्रयोगशालाओंसहित अन्य प्रमुख संरचनाओं का नामकरण भारतीय मनीषियों के नाम पर किया जाएगा।कॉलेज अपने राष्ट्रीय और सामाजिक दायित्वों के प्रति सदैव सजग रहा है और इस दृष्टि से इस वर्ष ज्ञानकेविस्तारहेतु ‘ज्ञान सेतु परियोजना’ के तहत सुदूर क्षेत्रों के कुछ कॉलेजों की गुणवत्ता में सुधार एवं मार्गदर्शन के लिए चुना जाएगा एवं उनकासहयोग किया जाएगा। इस विशेष वर्ष में कॉलेज अपने सभी विद्यार्थियों का ग्रुपइनश्योरेंसकेमाध्यमसेइनश्योरेंसभी करने जा रहाहै। इसके साथ ही वर्ष भर अनेक नए प्रस्तावों के साथ शोध, नवाचार, कौशल विकास आदि को बढ़ावा देने वाले तथा कॉलेज के विद्यार्थियों को अद्यतन सूचनाओं एवं ज्ञान को पहुंचाने वाले संसाधनों की उपलब्धता सुनश्चित कराने के प्रयास भी किएजाएंगे।

इस पत्रकार वार्ता में कॉलेज की प्राचार्या प्रो. रमा के साथ ही उप प्राचार्या अलका कक्कड़, स्थापना वर्ष कार्यक्रम की संयोजिका डॉ. शैलू सिंह तथामीडिया एवंप्रकाशन समिति के समन्वयक डॉ. विजय कुमार मिश्र भी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY